chessbase india logo

रोजुम इवान ने जीता गुजरात इंटरनेशनल का खिताब

03/10/2019 -

गुजरात स्पोर्ट्स चैस एसोसिएशन की देखरेख में अहमदाबाद के कर्नावती क्लब में 22 सितंबर 29 सितम्बर तक आयोजित हुए दूसरे गुजरात इंटरनेशनल ग्रांडमास्टर ओपेन चैस टूर्नामेण्ट का खिताब रुस के ग्रांडमास्टर इवान रोजूम ने आखिरी राउण्ड में आईएम निलाश साहा से अपना मैच आसानी से ड्रा कराकर, नाबाद रहते हुए 10 चक्रों के मैच में 8.5 अंक बनाकर अपने नाम कर लिया। टूर्नामेण्ट में 8 अंक बनाकर रोड्रिगो वास्केज, निलाश साहा, संदीपन चंदा संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे। लेकिन बेहतरीन टाइब्रेक के आधार पर रोड्रिगो उपविजेता, निलाश साहा तीसरे और संदीपन क्रमशः चौथे स्थान पर रहे। संदीपन और रोड्रिगो ने अपना कोई भी मैच नहीं गंवाया और दोनों ने ही अपने आखिरी राउण्ड में जीत दर्ज की। पढ़े नितेश श्रीवास्तव की रिपोर्ट

NEW! Learn the Ruy Lopez with Caruana

Over 16 hours of training in the Ruy Lopez by World Championship Challenger Fabiano Caruana. It's a bundle of three DVDs and it is out now. You can buy them now individually or buy all three volumes together. Order Vol.1-3 from here, or read more about them.

विश्व कप फ़ाइनल M3: तैमूर का पलटवार:हिसाब बराबर

02/10/2019 -

कहते है की शतरंज में अगर आप एक मुक़ाबला हार जाये तो उसको तुरंत भूल जाने में ही भलाई है ,पर हम सब जानते है की दरअसल ऐसा करना कितना मुश्किल काम है । पर अगर आप विश्व कप को जीतना चाहते है तो आपके अंदर यह क्षमता होनी ही चाहिए और ऐसा ही कुछ कर दिखाया है अजरबैजान के तैमूर राद्जाबोव नें । राउंड 2 में चीन के डिंग लीरेन से हारने के बाद सभी को ऐसा लगा की अब विश्व कप का खिताब डिंग के लिए जीतना आसान होगा पर तीसरे राउंड में गज़ब की संघर्ष क्षमता दिखाते हुए तैमूर नें ना सिर्फ जीत दर्ज की बल्कि स्कोर को बराबर करते हुए विश्व कप के रोमांच को चरम पर पहुंचा दिया । सफ़ेद मोहरो से हासिल हुई इस जीत के दम पर तैमूर नें अपने खिताब जीतने की संभावना को पुनः जीवित कर लिया है और अब अंतिम राउंड बेहद महत्वपूर्ण हो गया है । तीसरे स्थान के लिए फ्रांस के मेक्सिम लागरेव और चीन के यांगयी के बीच लगातार तीसरा मुक़ाबला ड्रॉ रहा । पढे यह लेख और देखे विडियो । 

विश्व कप फ़ाइनल M2 :डिंग लीरेन की बड़ी जीत, बनाई बढ़त

01/10/2019 -

रूस के कांति मनसीस्क में चल रहे फीडे विश्व कप फ़ाइनल में आज चीन के विश्व नंबर 3 डिंग लीरेन नें अपने प्रतिद्वंदी अजरबैजान के तैमूर राजदाबोव के खिलाफ एक बेहतरीन मुक़ाबला खेलकर ना सिर्फ जीत दर्ज की बल्कि विश्व कप विजेता बनने की और बेहद मजबूती से कदम बढ़ा दिये है । आज के खेल में डिंग और तैमूर के खेल के स्तर में काफी फासला दिखा ,जहां एक और डिंग के सभी फैसले सही साबित हुए तो तैमूर सही समय में सही योजनाए नहीं बना सके और परिणाम स्वरूप मैच में डिंग की पकड़ मजबूत होती चली गयी । अब क्यूंकी दो मैच के बाद डिंग 1.5-0.5 से आगे है उन्हे खिताब जीतने के लिए अगले दो मैच में से सिर्फ एक अंक की जरूरत है ऐसे में तैमूर को किसी भी कीमत पर जीत दर्ज करनी होगी, वरना डिंग का विजेता बनना तय है।  इस लिहाज से अगला राउंड बेहद महत्वपूर्ण है । खैर तीसरे स्थान के लिए चल रहा फ्रांस के मेक्सिम लाग्रेव और चीन के यू यांगयी के बीच का मैच आज फिर ड्रॉ रहा । पढे यह लेख और देखे विडियो विश्लेषण 

फीडे विश्व कप फ़ाइनल M1:ड्रॉ से हुई शुरुआत

30/09/2019 -

कांति मनसीस्क ,रूस में चल रहे फीडे विश्व कप के फ़ाइनल में पहला क्लासिकल मुक़ाबला आज बिना किसी परिणाम के समाप्त हो गया । काले मोहरो से खेलते हुए डिंग लीरेन नें तैमूर को बढ़त बनाने का कोई मौका नहीं दिया और एक आसान से ड्रॉ के साथ मनोवैज्ञानिक बढ़त बनाने में कामयाब रहे अब अगले तीन राउंड में डिंग के पास दो बार सफ़ेद मोहरे होंगे । खैर आज के मुक़ाबले की खास बात यह भी रही की दोनों नें इसी वर्ष अप्रैल में शमकीर मास्टर्स में हुए अपने मुक़ाबले को पूरी तरह से दोहराया और 26 चालों तक मैच "हू बहू " वैसा ही रहा । तीसरे स्थान के लिए चल रहे फ्रांस के मेक्सिम लाग्रेव और चीन के यू यांगयी के बीच भी मुक़ाबला आज शांतिपूर्ण रहा । पढे यह लेख 

डिंग लीरेन का जलवा कायम :पहुंचे विश्व कप फ़ाइनल

28/09/2019 -

चीन के नंबर 3 और विश्व शतरंज में दिग्गज के तौर पर उभर रहे डिंग लीरेन नें अपना बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखते हुए अपेक्षा के अनुरूप विश्व कप के फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया है । उन्होने हमवतन और एक साथ टीम में खेलने वाले यू यांगयी को मात देते हुए ना सिर्फ फ़ाइनल में लगातार दूसरी बार जगह बनाई बल्कि फीडे कैंडीडेट्स में भी अपना स्थान पक्का कर लिया । दो रैपिड टाईब्रेक में दूसरा टाईब्रेक ही जीतकर उन्होने मुक़ाबला खत्म किया । डिंग लीरेन के सामने अब है अजरबैजान के तैमूर राजदाबोव जो की एक लंबे समय के बाद शीर्ष स्तर पर जगह बनाने और कुछ अच्छा करने के लिए प्रेरित नजर आ रहे है । दोनों के बीच अब चार क्लासिकल मैच का फ़ाइनल मुक़ाबला खेला जाएगा । हालांकि इस बार एक और रोचक बात यह है की तीसरे स्थान के लिए भी मुक़ाबला खेला जाएगा जिसमें मेक्सिम लाग्रेव और यू यांगी दम लगाते नजर आएंगे और जीतने वाले के पास अभी भी कैंडीडेट्स में आने की संभावना है अगर कंडीडेट्स के आयोजक ऐसा चाहे तो । पढे यह लेख 

जोरदार जीत के साथ रादजाबोव विश्व कप फ़ाइनल में

27/09/2019 -

पिछले 17 दिनो से चल रहे फीडे विश्व कप को आखिरकार अपना पहला फ़ाइनलिस्ट खिलाड़ी मिल गया है । अजरबैजान के तैमूर रादजाबोव नें एक बेहतरीन मुक़ाबले में विश्व नंबर 4 फ्रांस के मेक्सिम लागरेव को पराजित करते हुए सेमीफ़ाइनल 1.5-05 से जीत लिया । साथ ही उन्होने ना सिर्फ पहली बार विश्व कप फ़ाइनल में जगह बनाई बल्कि 6 वर्ष के बाद अब वह फीडे कैंडीडेट्स में भाग लेते भी नजर आएंगे । इससे पहले वो वर्ष 2012 और 2013 में कैंडीडेट्स का हिस्सा रह चुके है । हालांकि उनके सामने विश्व कप के फ़ाइनल में कौन होगा यह अभी तय होना बाकी है क्यूंकी चीन के खिलाड़ियों डिंग लीरेन और यू यांगयी में अभी फैसला होना बाकी है की कौन फ़ाइनल में जाएगा । दोनों के बीच खेला गया दूसरा मुक़ाबला भी आज ड्रॉ रहा और अब कल टाईब्रेक से ही यह तय होगा की कौन खेलेगा फ़ाइनल और बनाएगा कैंडीडेट्स में अपनी जगह । पढे यह लेख 

विश्व कप सेमीफ़ाइनल : पहला दिन : नहीं आया परिणाम

26/09/2019 -

फीडे विश्व शतरंज कप में बस जल्द ही हमें पता लग जाएगा कौन विश्व कप के फ़ाइनल में होगा । डींग लीरेन के पास जहां लगातार दूसरी बार विश्व कप के फ़ाइनल में पहुँचने का मौका है, तो यू यांगी ,मेक्सिम लाग्रेव और तैमूर रद्जबोव के लिए यह पहला मौका है।  तो अब देखना होगा कौन इस मौके को भुनाने में सफल रहता है । सेमीफ़ाइनल के पहले क्लासिकल मुक़ाबले आसानी से ड्रॉ पर समाप्त हुए ,साफ नजर आ रहा है की कोई भी खिलाड़ी फिलहाल खतरा उठाने के मूड में नहीं है । कल अब दूसरा क्लासिकल मुक़ाबला होगा और ऐसे में सफ़ेद मोहरो से खेल रहे यू यांगी और तैमूर रद्ज्बोव पर सबकी नजर रहेगी की क्या परिणाम कल ही निकलेगा या फिर बात टाईब्रेक पर जाएगी और सबसे बड़ा सवाल कौन पहुँचेगा फीडे कैंडीडेट में ! पढे यह लेख 

गुजरात इंटरनेशनल: रोजूम इवान, सप्तऋषि संयुक्त बढ़त पर

26/09/2019 -

अखिल भारतीय शतरंज संघ की देखरेख और गुजरात स्पोर्ट्स चेस एसोसिएशन के आयोजन में अहमदाबाद के कर्नावती क्लब में 22 सितंबर से सेकेण्ड गुजरात इंटरनेशनल ग्रांडमास्टर ओपेन चेस टूर्नामेण्ट का शानदार आगाज हो चुका है। प्रतियोगिता कुल तीन कैटेगरी ए, बी, सी, वर्गों में हो रही है। जिसमें कुल 900 खिलाड़ी प्रतिभाग कर रहे है। सभी वर्गो में दस राउण्ड के मैच खेले जाएंगे। प्रतियोगिता का ए कैटेगरी अपने आधे से अधिक पड़ाव को पार कर चुका है। छह राउण्ड की समाप्ति के बाद टॉप सीटेड रुस के ग्रांडमास्टर इवान रोजूम और भारतीय ग्रांडमास्टर सप्तऋषि रॉय ने अपना कोई भी मैच नहीं गंवाते हुए 5.5 अंक बनाकर अंकतालिका में संयुक्त रूप से टॉप पर बने हुए है। पढ़े नितेश श्रीवास्तव रिपोर्ट

फीडे विश्व कप :अरोनियन की विदाई , मेक्सिम - यू यांगी पहुंचे सेमीफ़ाइनल

25/09/2019 -

कांति मनसीस्क ,रूस में चल रहे फीडे विश्व कप शतरंज के सेमी फ़ाइनल में चीन के डिंग लीरेन और अजरबैजान के तैमूर रद्ज्बोव के बाद फ्रांस के मेक्सिम लाग्रेव भी अब सेमी फ़ाइनल में जगह बना ली है और उन्होने पिछले बार के विजेता अर्मेनिया के लेवान अरोनियन को पराजित करते हुए अंतिम चार में स्थान बनाया ,अरोनियन नें जिस तरह से बेहतर बाजी गवाईं वास उन्हे वर्षो तक याद रहेगी तो दूसरी ओर किस्मत और मेहनत के धनी चीन के यू यांगी भी विश्व कप सेमी फ़ाइनल में पहुँच गए है ,उन्होने रूस की प्रतियोगिता में अंतिम चुनौती निकिता वितुगोव को अरमागोदेन के मुक़ाबले में पराजित करते हुए सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई । अब सेमीफ़ाइनल में चीन के दोनों खिलाड़ी डिंग लीरेन और यू यांगी आपस में मुक़ाबला खेलेंगे तो फ्रांस के मेक्सिम लाग्रेव अजरबैजान के रद्जबोव को चुनौती देंगे । पढे यह लेख । 

तैमूर और डिंग ने बनाई विश्व कप सेमी फ़ाइनल में जगह

24/09/2019 -

कांति मनसीस्क ,रूस में चल रहे विश्व कप के राउंड 5 के क्लासिकल मुकाबलो के बाद विश्व नंबर 3 चीन के डिंग लीरेन और अजरबैजान के तैमूर रद्ज्बोव सेमीफ़ाइनल में पहुँच गए है । डिंग लीरेन नें आज रूसी दिग्गज अलेक्ज़ेंडर ग्रीसचुक को पराजित किया तो तैमूर नें अमेरिकन प्रतिभा जेफ्री क्षियांग को 1.5-0.5 से मात देते हुए अंतिम चार में अपना स्थान तय कर दिया । हालांकि दोनों को अभी उनके प्रतिद्वंदीयों के नाम पाने के लिए टाईब्रेक का इंतजार करना होगा क्यूंकी अर्मेनिया के लेवान अरोनियन और फ्रांस के मेक्सिम लाग्रेव के बीच तो रूस के निकिता वितुगोव और चीन के यू यांगी के बीच मुक़ाबला 1-1 से बराबरी पर छूटा और अब कल वह टाईब्रेक के मुक़ाबले खेलेंगे । डिंग का मुक़ाबला या तो निकिता या फिर हमवतन यू यांगी से होगा जबकि तैमूर या तो अरोनियन या फिर मेक्सिम से मुक़ाबला खेलेंगे ! पढे यह लेख 

विश्व शतरंज में हम्पी की वापसी - जीता फीडे ग्रांड प्रिक्स खिताब

23/09/2019 -

भारतीय शतरंज के लिए सितंबर माह जाते जाते बड़ी खुशखबरी लेकर आया है भारतीय महिला शतरंज की निर्विवाद तौर पर अब तक की सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी एक बार फिर लय में लौट आई है । कोनेरु हम्पी नें रूस के मॉस्को में चल रहे फीडे महिला ग्रांड प्रिक्स का खिताब अपने नाम कर लिया है । 11 राउंड के राउंड रॉबिन मुक़ाबले में कोनेरु नें 5 जीत और 6 ड्रॉ के साथ अविजित रहते हुए 8 अंक बनाकर विजेता बनने का गौरव हासिल किया इसके साथ ही विश्व शतरंज में उन्होने धमक के साथ वापसी की है । 2577 रेटिंग अंको के साथ कोनेरु विश्व लाइव रेटिंग में अब तीसरे स्थान पर पहुँच गयी है । प्रतियोगिता में चीन की विश्व चैम्पियन जू वेंजून दूसरे तो रूस की अगली विश्व चैंपियनशिप चैलेंजर अलकसांद्रा गोरयाचिकना तीसरे स्थान पर रही । भारत की हरिका द्रोणावल्ली के लिए प्रतियोगिता ज्यादा अच्छी नहीं बीती और 5 अंक के साथ वह सातवे स्थान पर रही । पढे यह लेख 

कोनेरु हम्पी फीडे वुमेन ग्रांड प्रिक्स खिताब के करीब

22/09/2019 -

रूस में सम्पन्न हुई फीडे विश्व कप शतरंज स्पर्धा में तो भारत के खिलाड़ी बहुत ज्यादा कमाल तो नहीं दे सके पर उसी रूस के राजधानी मॉस्को में भारत की कोनेरु हम्पी नें एक बार विश्व महिला शतरंज के पटल पर अपनी धाक जमा दी है । करीब पिछले एक साल से वापसी की कोशिशों में जुटी हम्पी के लिए आखिरकार फीडे ग्रांड प्रिक्स भाग्यशाली साबित हुआ है और लगातार जीत के दम उन्होने प्रतियोगिता में एकल बढ़त बना ली है और बहुत संभावना है की जब वह कल अंतिम राउंड में मौजूदा विश्व चैम्पियन चीन की जू वेंजून के खिलाफ सफ़ेद मोहरो से खेलेंगी तो वह ग्रांड प्रिक्स की विजेता बन जाये । खैर रेटिंग के लिहाज से भी यह टूर्नामेंट उनके लिए काफी शानदार बीता है और उन्होने विश्व रैंकिंग में तीसरा स्थान पुनः हासिल कर लिया है । पढे यह लेख 

दीपन चक्रवर्ती बने लेक सिटी इंटरनेशनल विजेता

21/09/2019 -

राजस्थान में झीलों की नगरी उदयपुर के शानदार ऑरबीट रिर्सोट में 13 से 20 सितम्बर तक आयोजित की गई प्रथम लेक सिटी इंटरनेशनल ग्रांडमास्टर ओपेन चेस टूर्नामेण्ट का समापन शुक्रवार को हुआ। प्रतियोगिता के ओपेन वर्ग के खिताब के लिए खिलाड़ियों ने काफी धमासान मचा रहा। प्रतियोगिता में चैम्पियन के लिए 8 अंक बनाकर संयुक्त रूप से चार खिलाड़ियों ने अपनी दावेदारी पेश की लेकिन टाईब्रेक के आधार पर चैम्पियन का खिबात अपने शानदार खेल के लय में रहते हुए दूसरे सीडेड भारतीय ग्रांडमास्टर दीपन चक्रवर्ती (2539) ने अपने नाम कर लिया। पूरी प्रतियोगिता में दीपन अपराजित रहे और अपने प्रतिद्धद्धियों के छक्के छुड़ाते रहे। वहीं रैपिड और ब्लीट्ज का खिताब चिली के ग्रांडमास्टर रोड्रिगों वासकेस ने जीता। पढ़े नितेश श्रीवास्तव की रिपोर्ट

लेक सिटी इंटरनेशनल : खिताब एक चार दावेदार

19/09/2019 -

राजस्थान की खूबसूरत पर्यटन नगरी उदयपुर में अखिल भारतीय शतरंज संघ की देखरेख और चेस इन लेकसिटी के आयोजन में पहली बार हो रही लेकसिटी इंटरनेशनल ओपेन ग्रांडमास्टर चेस टूर्नामेण्ट अपने अंतिम पड़ाव पर जा पहुंचा है ।  टूर्नामेण्ट के ओपेन कैटगरी में 10 राउण्ड के मैच में सम्पन्न हो चुके 9 राउंड  के बाद भारत के नीलोत्पल दास और दीपन चक्रवर्ती तो रूस के रोजुम इवान और लुगोवासकोय मकसीम 7.5 अंक बनाकर खिताब के लिए अपनी दावेदारी पेश कर रहे है। अंतिम राउंड में नीलोत्पल को जहां रोजुम से तो दीपन को हमवतन स्वपनिल धोपाड़े से मुक़ाबला खेलना है जो की फिलहाल 7 अंको पर खेल रहे है । मकसीम के सामने भारत के आरआर लक्ष्मण होंगे ऐसे में काफी हद तक उम्मीद है की लेकसिटी के इस पहले संस्करण को कोई भारतीय खिलाड़ी अपने नाम करे  पढ़े नितेश श्रीवास्तव की रिपोर्ट

फीडे विश्व कप - भारतीय चुनौती खत्म, हौसला बाकी है !

17/09/2019 -

एक सच यह है की विश्व कप 2019 में भारतीय चुनौती समाप्त हो गयी है तो दूसरा सच यह भी है की भले ही भारतीय खिलाड़ी इस कठिन फॉर्मेट में तीसरे राउंड से आगे ना जा सके पर अगर हम इसमें भाग लेने वाले भारतीयो की संख्या को देखे तो यह अब तक का सबसे सफल विश्व कप भी कहा जाएगा । 19 वर्ष पहले 2000 में शुरू हुए विश्व कप के पहले दोनों संस्करण भारत के विश्वनाथन आनंद नें अपने नाम किए उन दिनो आनंद नॉकआउट टूर्नामेंट के मास्टर बन चुके थे । खैर उसके बाद विश्व कप का स्वरूप भी बदला और प्रतियोगिता भी कड़ी होती गयी और 2005 के बाद से यह फीडे कैंडीडेट में पहुँचने का एक रास्ता बन गया । भारत के लिए 2019 का यह टूर्नामेंट नन्हें निहाल सरीन के एक बड़े खिलाड़ी के तौर पर तब्दील होने के लिए भी याद रखा जाएगा । पढे यह लेख